Wednesday, April 17, 2024

Haryana, News, Religion

Haryana : नूंह में शांतिपूर्ण संपन्न हुई जलाभिषेक यात्रा,हिंदू संगठनों के 51 सदस्यों को पुलिस ने मंदिर ले जाकर जलाभिषेक कराया, बाहरी लोगों को एंट्री नहीं दी

Jalabhishek Yatra concluded peacefully in Nuh,51 members of Hindu organisations perform 'Jal Abhishek' at Temples

Jalabhishek Yatra concluded peacefully in Nuh,51 members of Hindu organisations perform 'Jal Abhishek' at Nalhar Temple, ( के नूंह( Nuh में विश्व हिंदू परिषद (VHP), सर्वजातीय हिंदू महापंचायत और बजरंग दल के आह्वान पर हिंदू संगठनों की पैदल ब्रजमंडल यात्रा नहीं हो सकी। पुलिस नूंह बाइपास से हिंदू संगठनों के 51 सदस्यों को पुलिस सिक्योरिटी में 3 गाड़ियों में लाई। उन्होंने पहले नलहरेश्वर मंदिर में जलाभिषेक किया। फिर गाड़ियों में उन्हें फिरोजपुर झिरका के रास्ते सिंगार स्थित राधाकृष्ण मंदिर पहुंचाया गया। वहां जलाभिषेक के बाद यात्रा का समापन हो गया।

हिंदू संगठनों की यात्रा को सरकार और प्रशासन ने पहले ही परमिशन देने से इनकार कर दिया था। नूंह में बाहरी लोगों को मंदिर में एंट्री नहीं दी गई। सिर्फ स्थानीय लोग ही लोकल ID दिखाकर जा सके।वहीं ​​सोमवार को नूंह ( Nuh में कर्फ्यू जैसा माहौल रहा। यहां के बाजार, स्कूल-कॉलेज सब बंद रहे। धारा 144 लागू कर दी गई है।

Jalabhishek Yatra concluded peacefully in Nuh,51 members of Hindu organisations perform 'Jal Abhishek' at  Templesदोपहर में तीन गाड़ियों का काफिला अड़बर चौक से मंदिर के लिए रवाना हुआ। इस दौरान लोग हर-हर महादेव के उद्घोष करते गए। सबसे पहले पटौदी के स्वामी धर्मदेव मंदिर पहुंचे। तीन छोटी गाड़ियों से भी लोग पहुंचे। इसके बाद वीएचपी के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार पहुंचे। इसके बाद रोडवेज की बस से कुछ लोग मंदिर के लिए रवाना हुए।

वीएचपी समेत अन्य लोगों ने नल्हड मंदिर, फिरोजपुर झिरका मंदिर और सिंगार शिव मंदिर में जलाभिषेक किया। इसके लिए अलग-अलग टीमें बनी थीं। नूंह में सुबह स्थानीय लोगों ने भगवान शंकर का जलाभिषेक किया। इसमें नूंह आधार कार्ड वाले लोगों को ही प्रवेश मिला।

नूंह ( Nuh के तीनों प्रमुख मंदिरों में साधू-संत व श्रद्धालुओं के जत्थे पहुंचे। हर हर महादेव, जय श्री राम के उदघोषों के साथ जत्थे में आए लोगो ने मंदिरों में प्रवेश कर जलाभिषेक किया। पुन्हाना उपमंडल के गांव सिंगार स्थित श्री श्रृंगेश्वर मंदिर पर सुबह से ही पुन्हाना शहर सहित आसपास के गांवों से भारी संख्या में श्रद्धालु जलाभिषेक करने पहुंचे। भारी पुलिस बल भी यहां तैनात किया गया था।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) ममता सिंह ने कहा कि कुछ संगठनों द्वारा ब्रजमंडल की शोभायात्रा को लेकर आह्वान करने पर किसी भी संगठन को अनुमति नहीं दी गई, लेकिन जिले में लगातार जलाभिषेक हुआ।

जलाभिषेक हर सोमवार को किया जाता है, पिछले सोमवार भी ढाई सौ से 500 लोगों ने मंदिर में जलाभिषेक किया था। इसी कड़ी में इस बार भी स्थानीय लोगों द्वारा नल्हेश्वर मंदिर में जलाभिषेक का कार्यक्रम हुआ।
उन्होंने कहा कि जिले में पुलिस प्रशासन पूरी तरह अलर्ट रही और शांति एवं कानून व्यवस्था बनी हुई है। किसी को भी यात्रा के रूप में जिले में प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई। जलाभिषेक शांति पूर्वक होने पर पुलिस ने राहत की सांस ली।
महामंडलेश्वर स्वामी स्वामी धर्मदेव ने कहा कि भगवान महादेव की कृपा से आज धर्म यात्रा संपूर्ण हुई। भगवान महादेव को भी ये ही मंजूर था कि सावन के आखिरी सोमवार को बड़े बड़े साधु संत आकर मेवात के प्राचीन मंदिरों में जलाभिषेक करें। इसलिए आखिरी सोमवार को जलाभिषेक कार्यक्रम होना तय था।
इससे पहले नूंह( Nuh यात्रा में हिस्सा लेने अयोध्या से आए संत जगद्गुरु परमहंस आचार्य महाराज को प्रशासन ने गुरुग्राम सोहना टोल प्लाजा पर रोक दिया। इस कार्रवाई के विरोध में उन्होंने प्लाजा के पास ही आमरण अनशन शुरू कर दिया है।31 जुलाई को ब्रजमंडल यात्रा के दौरान हिंसा हुई थी, जिसमें 2 होमगार्ड समेत 6 लोगों की मौत हो गई थी।

#WATCH| Chandigarh: I am grateful to the residents of Nuh. We had appealed to several organisations to not put much emphasis on Yatra. I thank them for listening to us and the ‘Jalabhishek’ program was conducted peacefully today, says Haryana CM Manohar Lal Khattar. pic.twitter.com/D4zFM8HctT

— ANI (@ANI) August 28, 2023


Vijay Upadhyay

Vijay Upadhyay is a career journalist with 23 years of experience in various English & Hindi national dailies. He has worked with UNI, DD/AIR & The Pioneer, among other national newspapers. He currently heads the United News Room, a news agency engaged in providing local news content to national newspapers and television news channels