Thursday, April 18, 2024

INDIA, Indian Army, Ladakh, News

Ladakh : सियाचिन में पहले ‘अग्निवीर’ का सर्वोच्च बलिदान,अक्षय लक्ष्मण 20 हजार फीट की ऊंचाई पर देश की रक्षा में थे तैनात,सेना ने श्रद्धांजलि दी

First Agniveer Gawate Akshay Laxman martyred defending the country at 20,000 ft. in Siachen

सियाचिन में तैनात   ( ) के अग्निवीर ( Agniveer )अक्षय लक्ष्मण की एक ऑपरेशन के दौरान जान चली गई है।  लक्ष्मण ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले देश के पहले अग्निवीर हैं। वह महाराष्ट्र के रहने वाले थे। लक्ष्मण भारतीय सेना की फायर एंड फ्यूरी कोर का हिस्सा थे।भारतीय  सेना प्रमुख जनरल मनोज पांडे और बाकी जवानों ने उसकी मौत पर शोक व्यक्त किया है।

भारतीय सेना ने अग्निवीर ( Agniveer ) अक्षय लक्ष्मण को श्रद्धांजलि देते हुए सोशल मीडिया पर पोस्ट भी किया, हालांकि उनके नाम के आगे शहीद नहीं लिखा। फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स ने लिखा- सेना सियाचिन की कठिन ऊंचाइयों पर ड्यूटी के दौरान अग्निवीर (ऑपरेटर) गावते अक्षय लक्ष्मण के सर्वोच्च बलिदान को सलाम करती है।उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं। इस दुख की घड़ी में सेना परिवार के साथ है।’

काराकोरम रेंज में लगभग 20 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित सियाचिन ग्लेशियर को दुनिया के सबसे ऊंचे सैन्यीकृत क्षेत्र के रूप में जाना जाता है। यहां सैनिकों को तेज शीत हवाओं से जूझना पड़ता है।अभी यह पता नहीं चल पाया है कि अग्निवीर ( Agniveer ) लक्ष्मण की मौत का कारण क्या है।

सेना के नियम के मुताबिक, जॉइनिंग के पहले साल में अग्निवीरों  को 4.76 लाख रुपए का पैकेज मिलता है। वहीं 4 साल का कार्यकाल खत्म होने तक इसे 6.92 लाख रुपए तक बढ़ाया जा सकता है। यानी अग्निवीरों को हर महीने 30 हजार से 40 हजार सैलरी मिलती है।

इसके अलावा तीनों सेनाओं के स्थायी सैनिकों की तरह अवॉर्ड, मेडल, भत्ता मिलेगा। वहीं सरकार 44 लाख का बीमा भी कराएगी। ड्यूटी के दौरान अगर अग्निवीर का निधन हो जाता है तो उन्हें बीमा की रकम मिलेगी। इसके अलावा उनके बचे हुए कार्यकाल का वेतन भी मिलेगा।

Vijay Upadhyay

Vijay Upadhyay is a career journalist with 23 years of experience in various English & Hindi national dailies. He has worked with UNI, DD/AIR & The Pioneer, among other national newspapers. He currently heads the United News Room, a news agency engaged in providing local news content to national newspapers and television news channels