Sunday, April 21, 2024

Delhi, Elections, INDIA, News

संसद के विशेष सत्र की घोषणा के बाद ‘एक देश एक चुनाव’ पर केंद्र का बड़ा कदम, पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में बनाई गई समिति

Govt announces former President Ram Nath Kovind-led panel to explore ‘one nation, one election’

Govt announces former President Ram Nath Kovind-led panel to explore ‘one nation, one election’‘एक देश एक चुनाव’ (One Nation One Electionके लिए गठित की गई कमेटी से ने आने वाले दिनों में होने वाले चुनाव के लिए एक बड़ी सियासी बिसात बिछा दी है। ‘एक देश-एक चुनाव’ पर केंद्र सरकार ने कमेटी बना दी है। पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को इसका अध्यक्ष बनाया गया है। केंद्र सरकार ने 18 सितंबर से 22 सितंबर तक संसद का विशेष सत्र बुलाया है। संभव है कि एक देश एक चुनाव पर सरकार बिल भी ला सकती है।

केंद्र की बनाई कमेटी एक देश एक चुनाव (One Nation One Electionके कानूनी पहलुओं पर गौर करेगी। साथ ही इसके लिए आम लोगों से भी राय लेगी। इस बीच, भाजपा के अध्यक्ष जेपी नड्डा कोविंद से मिलने उनके आवास पर पहुंचे। हालांकि, इस मुलाकात की वजह सामने नहीं आई है।

सरकार की इस पहल पर लोकसभा में विपक्ष के नेता और कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि आखिर एक देश एक चुनाव की सरकार को अचानक जरूरत क्यों पड़ गई। वहीं कांग्रेस नेता और छत्तीसगढ़ के डिप्टी CM टीएस सिंहदेव ने कहा- व्यक्तिगत तौर पर मैं एक देश एक चुनाव का स्वागत करता हूं। यह नया नहीं, पुराना ही आइडिया है।

इस बीच, संसदीय कार्य मंत्री, प्रह्लाद जोशी ने कहा, ‘अभी तो समिति बनी है, इतना घबराने की बात क्या है? समिति की रिपोर्ट आएगी, फिर पब्लिक डोमेन में चर्चा होगी। संसद में चर्चा होगी। बस समिति बनाई गई है, इसका अर्थ यह नहीं है कि यह कल से ही हो जाएगा।’

मई 2014 में जब केंद्र में मोदी सरकार आई, तो कुछ समय बाद ही एक देश और एक चुनाव को लेकर बहस शुरू हो गई। मोदी कई बार ‘एक देश एक चुनाव’(One Nation One Election की वकालत कर चुके हैं। संविधान दिवस के मौके पर एक बार प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- आज एक देश-एक चुनाव सिर्फ बहस का मुद्दा नहीं रहा। ये भारत की जरूरत है। इसलिए इस मसले पर गहन विचार-विमर्श और अध्ययन किया जाना चाहिए।

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त (CEC) टीएस कृष्णमूर्ति का कहना है कि एकसाथ चुनाव कराने के कई फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं। फायदे गिनाते हुए पूर्व सीईसी ने कहा कि एकसाथ चुनाव कराने से चुनाव प्रचार पर होने वाला समय बचेगा। साथ ही चुनाव खर्च में भी कमी आएगी। कृष्णमूर्ति ने कहा कि यह भी देखा गया है कि लोकसभा चुनाव के साथ हुए राज्यों के चुनाव में लोगों ने अलग-अलग वोट किया, पहले हुए कई चुनावों में यह साबित भी हुआ है।

Vijay Upadhyay

Vijay Upadhyay is a career journalist with 23 years of experience in various English & Hindi national dailies. He has worked with UNI, DD/AIR & The Pioneer, among other national newspapers. He currently heads the United News Room, a news agency engaged in providing local news content to national newspapers and television news channels