Thursday, June 20, 2024

INDIA, Law, News

Uttar Pradesh : प्रेमी के साथ मिलकर पति की हत्या करने वाली एनआरआई महिला को यूपी की शाहजहांपुर कोर्ट ने दी मौत की सजा 

NRI woman sentenced to death by Shahjahanpur court in UP for murdering her husband with boyfriend

NRI woman sentenced to death by Shahjahanpur court in UP for murdering her husband with boyfriend 2 ( के  (   कोर्ट ने शनिवार  को पति की हत्या करने वाली एनआरआई( NRI   पत्नी को फांसी की सजा सुनाई है। महिला पर 5 लाख का जुर्माना भी लगाया। वहीं, महिला के बॉयफ्रेंड को उम्रकैद की सजा के साथ 3 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।

पति की हत्या की साजिश इंग्लैंड में रची गई थी, भारत में हत्या की गई। वारदात में शामिल बॉयफ्रेंड दुबई में रहता था। हत्याकांड 2016 में हुआ था। घटना के 7 साल बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया।

 शाहजहांपुर ( Shahjahanpur  कोर्ट ने फैसले में कहा कि केवल अपने अनैतिक संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए रमनदीप ने जिस प्रकार से अपने पति की हत्या की है, उससे यह अपराध विरल से विरलतम श्रेणी में आता है। दोनों का कृत्य किसी प्रकार से रहम करने योग्य नहीं है।

शाहजहांपुर( Shahjahanpur के बंडा के बसंतापुर स्थित फार्म हाउस में हत्या की वारदात एक सितंबर 2016 को हुई थी। दो सितंबर की सुबह सुखजीत सिंह की एनआरआई( NRI   पत्नी रमनदीप के शोर से परिजनों की आंख खुली तो सुखजीत की रक्तरंजित लाश देखकर होश उड़ गए। मकान की दूसरी मंजिल पर बने कमरे में सुखजीत का शव पड़ा था। उनका गला काटा गया था।
रमनदीप ने पुलिस को बताया था कि वह अलग कमरे में सो रहे थे। सुबह उसे हत्या की जानकारी हो सकी। सुखजीत के घर दो खतरनाक कुत्ते भी पले थे, जो बेहद अलसाई स्थिति में मिले थे। रमनदीप कौर पति की मौत से गमजदा होने के स्थान पर पुलिस और लोगों का वीडियो बनाती रही। सुखजीत की किसी से रंजिश की बात भी सामने नहीं आई थी, इससे पुलिस का शक रमनदीप पर हो गया था।

शाहजहांपुर( Shahjahanpur  के बंडा के बसंतापुर गांव निवासी सुखजीत सिंह लंदन में ट्रक ड्राइवर थे। एक सितंबर 2016 की रात तीसरी मंजिल पर सोते समय उनकी गला रेत कर हत्या कर दी गई थी। एनआरआई  पत्नी रमनदीप कौर ने अज्ञात हमलावरों पर घर में घुसकर हत्या का आरोप लगाया था, लेकिन जांच में सच्चाई सामने आने पर रमनदीप और दुबई में रहने वाले उसके बॉयफ्रेंड मिट्ठू सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। इसके बाद से कोर्ट में केस की सुनवाई चल रही थी।

सुखजीत और मिट्ठू बचपन के दोस्त थे और एक ही गांव के थे। सुखजीत नौकरी के लिए इंग्लैंड में रहने वाली अपनी बहन के पास चला गया। वहां सुखजीत टैंकर चलाने लगा। मिट्ठू सिंह भी दुबई चला गया। इसी बीच इंग्लैंड में सुखजीत की मुलाकात इंग्लैंड में जन्मीं एनआरआई( NRI   रमनदीप कौर से हुई। दोनों के बीच अफेयर शुरू हुआ और बाद में दोनों ने शादी कर ली। हालांकि, शादी से रमनदीप के परिजन खुश नहीं थे।

शादी के बाद सुखजीत और रमनदीप दुबई घूमने गए। यहां दोनों की मुलाकात मिट्ठू सिंह से हुई। दुबई में सुखजीत और रमनदीप करीब 6-7 दिन रहे। इस बीच रमनदीप और मिट्ठू सिंह की अच्छी दोस्ती हो गई। उसके बाद मिट्ठू भी इंग्लैंड आने-जाने लगा। रमनदीप और मिट्ठू के बीच अफेयर हो गया। सुखजीत को इसका शक हो गया और उसने पत्नी रमनदीप पर नजर रखनी शुरू कर दी।

रमनदीप ने सुखजीत को अफेयर के पता चलने का बताया और कुछ दिन दूर रहने को कहा, ताकि सुखजीत का शक दूर हो जाए। घर में दिक्कतें बढ़ जाने मिट्ठू और रमनदीप ने सुखजीत को रास्ते से हटाने की साजिश की। मिट्ठू चोरी से इंग्लैड आया, फिर वापस दुबई लौट गया। कुछ दिन बाद रमनदीप ने पति सुखजीत से दुबई घूमने जाने के लिए कहा।

पत्नी की खुशी के लिए सुखजीत दुबई जाने के लिए तैयार हो गया। दुबई में ये लोग एक होटल में रुके। मिट्ठू भी उन लोगों से वहां मिलने आता था। दुबई में ही रमन और सुखजीत ने भारत आने का प्लान बनाया। इनके साथ मिट्ठू भी 15 दिन के लिए भारत आया। भारत में अपने घर आने के बाद सुखजीत और मिट्ठू मिला करते थे। रमन भी उनके साथ रहती थी। 15 दिन बीतने के बाद मिट्ठू दुबई जाने लगा।

मिट्ठू ने सुखजीत से खुद को एयरपोर्ट तक छोड़ने के लिए कहा। सुखजीत के साथ पत्नी रमन भी उसको छोड़ने गई। कार से तीनों एयरपोर्ट के लिए निकले। मिट्ठू को एयरपोर्ट छोड़ने के बाद रमन और सुखजीत वापस घर लौट रहे थे। कार सुखजीत चला रहा था, रमन बगल वाली सीट पर बैठी थी।

तभी एक सुनसान जगह पर रमन ने सुखजीत पर चाकू से हमला कर दिया, लेकिन सुखजीत ने किसी तरह अपनी जान बचा ली। इसके बाद रमन रोने लगी और माफी मांगी। दोनों किसी तरह घर पहुंचे। सुखजीत ने सच छिपाने के लिए घर पर कार का शीशा लगने की बात कही। इलाज कराने के बाद रमन और सुखजीत ऊपर कमरे में चले गए।

मिट्ठू, सुखजीत के घर की छत पर दोनों का पहले से इंतजार कर रहा था। मिट्ठू दुबई गया ही नहीं था। ये रमनदीप और मिट्ठू का प्लान था कि अगर पहले हमले में वो बच जाएगा तो फिर उसको घर में मार देंगे और लूट की झूठी कहानी बता देंगे।

1 सितंबर 2016 की रात खाने में बिरयानी बनाई, जिसमें नशीली दवा मिलाकर सुखजीत और परिवार के सभी सदस्यों को खिलाई। घर में कुत्ते पले हुए थे। वे शोर ना करें, इसलिए उन्हें भी यह बिरयानी देकर बेहोश कर दिया गया।

इसके बाद छत पर बच्चों के साथ अलग कमरे में सो रहे सुखजीत की गला रेत कर हत्या कर दी। मिट्ठू ने सुखजीत के सिर पर हथौड़े से वार किए। सुबह जब घरवालों को होश आया तो रमनदीप ने शोर मचाया। कहा कि कोई बाहर से छत पर चढ़ आया और सुरजीत की हत्या करके भाग गया।

इस घटना का खुलासा शाहजहांपुर( Shahjahanpur  पुलिस ने एक दिन में कर दिया था। पुलिस ने शक के आधार पर एनआरआई( NRI   रमनदीप को मौके से गिरफ्तार कर लिया था। उसके बाद सख्ती से हुई पूछताछ में रमनदीप ने सारा सच उगल दिया। इसके बाद मिट्ठू को भी एयरपोर्ट जाने वाले रास्ते से गिरफ्तार कर लिया।

अभियोजन से अपराध नियंत्रण

मा0मुख्यमंत्री उ0प्र0 के निर्देशानुसार @dgpup श्री विजय कुमार द्वारा चलाए जा रहे #OperationConviction के तहत@shahjahanpurpol व अभियोजन विभाग के प्रयास से मा0न्या0 द्वारा हत्या के अभियोग में अभियुक्ता को मृत्युदंड व अभि0 को कारावास से दण्डित किया गया है pic.twitter.com/4XT6DdrCBG

— UP POLICE (@Uppolice) October 7, 2023

 

Vijay Upadhyay

Vijay Upadhyay is a career journalist with 23 years of experience in various English & Hindi national dailies. He has worked with UNI, DD/AIR & The Pioneer, among other national newspapers. He currently heads the United News Room, a news agency engaged in providing local news content to national newspapers and television news channels