Sunday, April 21, 2024

Crime, Health, News, Uttar Pradesh

Uttar Pradesh : लखनऊ में 20 लाख के बैंक लोन की EMI न दे पाने से परेशान युवा डॉक्टर प्रदीप वर्मा ने लगा ली फांसी, नर्सिंग होम खोलने के लिए ले रखा था कर्ज

Unable to pay EMI of Rs. 20 Lakh loan for Nursing Home, young Lucknow doctor commits suicide 2

उत्तर प्रदेश की राजधानी   में विकास नगर इलाके में बैंक के 20 लाख के कर्ज से परेशान 38 साल के डॉक्टर प्रदीप वर्मा Dr. Pradeep Verma  ने फांसी लगा ली। सुबह जब मकान मालिक घर पर पहुंचे तो घटना का पता चला। कमरे से सुसाइड नोट मिला है। इसमें उन्होंने कर्ज की अदायगी न हो पाने के चलते तनाव में होने की बात लिखी है। पुलिस ने सुसाइड नोट कब्जे में ले लिया है। हादसे की सूचना पर परिवार में कोहराम मच गया। प्रदीप अविवाहित थे।

 () जिले के मसौली के रहने वाले प्रदीप वर्मा ने 2013 में केजीएमयू से एमबीबीएस ( )किया था। मृतक के पिता सूर्य प्रकाश वर्मा के मुताबिक, बेटा प्रदीप लखनऊ ( Lucknow) के  विकासनगर के विनायकपुरम में ओपी गुप्ता के मकान पर काफी समय से किराये पर रह रहे थे। प्रदीप गुडंबा के एक निजी अस्पताल में प्रैक्टिस कर रहे थे।

पिता ने बताया कि मकान मालिक किसी काम से डॉ प्रदीप वर्मा Dr. Pradeep Verma  को घर की जिम्मेदारी सौंपकर शनिवार को बाराबंकी गए थे। प्रदीप घर में अकेले थे। रविवार सुबह मकान मालिक लौटे तो दरवाजा बंद था। खटखटाने पर भी जवाब नहीं मिला। खिड़की तोड़कर अंदर पहुंचे तो गमछे के सहारे प्रदीप का शव पंखे से लटका मिला। सूचना पर लखनऊ ( Lucknow)  पुलिस और प्रदीप के घरवाले भी पहुंच गए। परिवार में मां चंदा देवी, एक बड़ा भाई संदीप है। सूर्य प्रकाश बेटे संदीप के साथ गांव में क्लीनिक चलाते हैं।

खुद के हॉस्पिटल की प्लानिंग कर रहे डॉ. प्रदीप ने 2 बैंक से 20 लाख रुपए का लोन लिया था। कमरे में मिले सुसाइड नोट के मुताबिक, 8 लाख रुपए का लोन चुकाने के बावजूद अब वो किस्त नहीं दे पा रहे थे। इसी परेशानी में उन्होंने सुसाइड कर लिया।

पिता ने बताया,डॉ प्रदीप वर्मा के Dr. Pradeep Verma पास से मिले सुसाइड नोट में लिखा था कि बैंक से कर्ज लिया था जो चुका नहीं पाने की वजह से काफी परेशान हूं।” दरअसल, प्रदीप ने लखीमपुर में एक अस्पताल खोलने के लिए दो बैंकों से बीस लाख रुपया लोन ले रखा था। जिसमें से करीब आठ लाख रुपए अदा भी कर चुका है। बैंक की किश्तें जमा नहीं होने से उसको बैंक वाले फोन करके परेशान कर रहे थे। जिससे वह बीते कुछ दिनों से काफी परेशान था।

 

Vijay Upadhyay

Vijay Upadhyay is a career journalist with 23 years of experience in various English & Hindi national dailies. He has worked with UNI, DD/AIR & The Pioneer, among other national newspapers. He currently heads the United News Room, a news agency engaged in providing local news content to national newspapers and television news channels